कुमुद दीक्षित

बंधन
बंधन है यह रक्षा का
संरक्षण का ,समर्पण का
प्रेम और कर्तव्य का
रंग -बिरंगे धागों का
आत्मीयता पूर्ण भावों का ।।

रिश्तो का अनमोल यह बंधन भावों का यह भँवर जाल है
इसमें फंँस कर ही तो पनपा
भाई -बहन का यह प्यार है ।
किंतु,
रेशमी धागों के बंधन को
जो बंधन मान बैठे तुम
मनभेद और मतभेद को
जो पाल बैठे तुम ।
खत्म हो जाएगा धागे का महत्व ,
द्रोपदी ने जो बांधा ‘कृष्ण’ को इंद्राणी ने ‘इंद्र’ को
विलुप्त हो जाएगी संस्कृति
उसी क्षण
पावन पर्व को जो अपावन
मान बैठे तुम ।
स्वरचित
कुमुद दीक्षित

लखनऊ

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

करुणा सिंह कल्पना

Mon Aug 3 , 2020
रुत आ गयी पवन छेड़ रही है गीत,अब आ भी जा मेरे मीत तेरे मेरे मिलन की अब आ गयी है बेलाखत्म हो गई अब जुदाई की बेलाआ अब लौट चले फिर से उसी पहलू में,जहाँ गीत संगीत छेड़ रही है शीतल पवन,पांव पसारे दस्तक दे रही है मौसम अलबेला,तन्हाई […]

Breaking News