साहित्य क्या है?

साहित्य क्या है?

अपने ही हुनरमन्द हाथों से बनाई
स्वप्न धरा को छोड़ छाड़ कर
दौड़ते भागते
पसीने से तरबतर प्रवासी मजूर
मजूर के थके पाँव
पाँवों के छाले
छालों से रिसते लहू
लहू के रंग की
जिद
और उस जिद के भीतर ही भीतर
कण कण कर पिघल रहा
आदमीं और उसका दुनिया जहान
ही तो है साहित्य।

सड़क किनारे फुटपाथ पर
निढ़ाल पड़ी माँ की सूखी छातियाँ चिचोड़ती
दुधमुंही बच्ची
बच्ची की आँखों में
चलता फिरता
कभी हँसता
कभी कभी बिना आँसू रोता आसमान
महाकाव्य का असल भावार्थ
और
उसका राग है।

सिंहासनों के टक्कर से उपजी
मन के कानों में
आहिस्ता आहिस्ता
आग घोलने वाली
आवाज़ के भीतर का सच
सच के चारो ओर घिरे
चमकदार चांदनी से सौ सौ झूठ
और उन झूठों के भीतर
बहुत दूर तक जाती
वर्तुलाकार सुरंग के अन्तिम छोर पर विस्तारित
निष्ठुर अट्टहास के दुरन्त से
आदमी का घर
तलाश लेने का दुस्साहस ही
उपन्यास रस की व्यंजना है।

ओमप्रकाश मणि,कैम्पियरगंज, गोरखपुर।

                    

                        

Keshav Shukla

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

हम नौतनवा के ईओ हैं,,बिना मास्क सड़क पर घूमेंगे,,का करोगे?

Fri May 22 , 2020
धर्मेन्द्र चौधरी की रिपोर्ट: कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के लिए शासन प्रशासन आए दिन नए-नए दिशा निर्देश जारी कर रहा है। जिसके क्रियान्यवन के क्रम में आम जनता पर कार्रवाई की जा रही है। रोडवेज के बाबू तक को थूका साफ करा कर जुर्माना काटा जा रहा है। कोरोना […]

Breaking News