प्रेम का अलाव-शोभा किरण

रिस्ते मर जाते हैं धीरे धीरे।
सबसे पहले मरता है लगाव,
कम होता जाता है प्रभाव।
थमती जाती हैं बातें,
जड़ होती जाती हैं रातें।
ठंढा पड़ता जाता है,
दिल में जल रहे प्रेम का अलाव।
कोई करीबी,दे जाता है, जख्म,घाव।

फिर रुकना,मिलना ,ठहरना,,
कुछ मायने नहीं रखता।
सब कुछ बेमानी सा,
वही खास आम होने लगता है।
मन मे बसने वाले के लिए,
मन के द्वार पर जड़ दिए जाते हैं,
असंख्य कभी न खुलने वाले ताले।
यूँ भी तो होती है,
किसी रिस्ते की बेवक़्त मृत्यु।

एक उस राह को बदल
चल पड़ता है, दूसरी राह
नई मंज़िल की तलाश में,
किसी और दिशा में।
और दूसरा ढोता है,
तमाम उम्र उन यादों को,
किस्तों में चुकाते हुए,
अपनी भावनाओं की सारी जमा पूंजी
लुटा कर भी नहीं चूकती कभी वो क़िस्त।

और उपजती रहती हैं,
अनगिनत प्रेम कविताएं।
संभावनाएं तलाशते हुए,
पत्थर पर फूल उगाने के,
मासूम रिस्तों को बचाने के।
कुछ कविताएं यूँ भी तो
जन्म लेती हैं न
रिस्तों के मरने के बाद।

शोभा किरण
जमशेदपुर
झारखंड

शोभा किरण
जमशेदपुर
झारखंड

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

अनियमितताओं पर कार्रवाई कर 48 घंटे में डीएम दें रिपोर्ट: पं. श्रीकान्त शर्मा

Thu May 21 , 2020
अनियमितताओं पर कार्रवाई कर 48 घंटे में डीएम दें रिपोर्ट: पं. श्रीकान्त शर्मा प्रभारी मंत्री मेरठ ने की जनप्रतिनिधियों के साथ वीडियो कांफ्रेन्सिंग प्रभारी मंत्री ने अव्यवस्थाओं पर जताई नाराजगी अधिकारी खुद चखें खाना, गुणवत्ता में लापरवाही स्वीकार नहीं हॉट स्पॉट व कंटेन्मेंट जोन में सख्ती बरतने के निर्देश जिले […]

Breaking News