तुम मिलना मुझे

शोभा किरण




जीवन पथ पर चलते चलते ,
फूल मिलेंगे कांटे भी ,
तेरी राहों के फूल सभी ,
मैं चुन लूंगी पलकों से ,
जब बो दूंगी आशा के बीज ,
तब सुगंध बन तुम मिलना मुझे।

जब मन से मन मिल जाते हैं ,
तब तन का कोई मोल कहां ?
मैं बंध बैठी जिस डोरी से,
अब उससे कुछ अनमोल कहाँ?
जब वचन निभाने की हो बारी,
तब अनुबंध बन तुम मिलना मुझे ।

मेरे होठों के गीत सभी,
तुम से ही शुरू तुम पर ही खत्म ,
कभी शब्द अगर मुझसे रूठे,
बस में गर मेरे लय न रहे,
जब लिख ना पाऊं कोई कविता ,
तब छंद बन तुम मिलना मुझे ।

अंतिम सांसों की आहट हो ,
लड़खड़ाती बोली घबराहट हो ,
पलकों की आखिरी थपकी हो,
आखिरी धड़कन की दस्तक हो,
अगले जनम फिर से मिल जाए ,
वह प्रबंध बन तुम मिलना मुझे।

शोभा किरण
जमशेदपुर /झारखंड

Keshav Shukla

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

पूरे श्रावण मास नहीं किए जाएंगे गौरीशंकर मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान

Sun Jul 5 , 2020
[pl_row] [pl_col col=12] [pl_text] कैम्पियरगंज, गोरखपुर। 05 जुलाई2020 कल पहले सोमवार से शुरू हो रहे सावन माह में शिव मंदिर में जलाभिषेक व रुद्राभिषेक जैसे धार्मिक कार्यक्रम की अनुमति न होने के कारण मुकामी थाने की पुलिस द्वारा मंदिर समिति के सदस्यों की मौजूदगी में मंदिर की ओर आने वाले […]

Breaking News