“एक गीत की तरह” एक कविता “

डॉक्टर प्रभुनाथ गुप्त ‘विवश’गोरखपुरी

एक गीत की तरह
कोई आवाज़ आती है
मीठी सी प्यारी सी
कदाचित् वह कोयल है जो
गीत गाती है
हर सुबह हर शाम………

जगाकर मेरे सुप्त हृदय को
खो जाती है या
छिप जाती है नीड़ में
बस देखता रहता हूँ देर…तक
उस छायादार बृक्ष को
हर सुबह हर शाम…… ….

फिर जाती है नज़र
सामने की खिड़की पर जो
खुलती है ….फिर…..
बन्द हो जाती है..
फिर खुलेगी जब……
मुझे नींद आने को होगी
देखता रहता हूँ उसी को
हर सुबह हर शाम ………..

कितनी निष्ठावान है
वह कोयल वह चेहरा जो
छिपाये हुए है हृदय में
कसक, वेदना और पीड़ा को
और मैं.. ….चौंक पड़ता हूँ
ज़रा सी आहट पर
कदाचित् वो…. आयें
जोहता हूँ राह
हर सुबह हर शाम……….

रचना- डॉ० प्रभुनाथ गुप्त ‘विवश’ गोरखपुरी
(सहायक अध्यापक, पूर्व माध्यमिक विद्यालय बेलवा खुर्द, लक्ष्मीपुर, जनपद- महराजगंज, उ० प्र०)

Keshav Shukla

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

वैदेही-राम सम्वाद

Thu May 28 , 2020
अश्वमेध यज्ञ के बाद जबराम सीता का आमना सामना हुआ होगा तब अयोध्या के महाराज श्री राम के मन हृदय में क्या हुआ होगा गरिमा पाठक के शब्दों में …। वैदेही वैदेही अब लौट चलोअब न होगी भूलबहुत चुभते हैंअब वे करुणविरह दंश के शूल वैदेही अब लौट चलोअब न […]

Breaking News