-प्रियंवदा अवस्थी


संक्षिप्त परिचय-
नाम -प्रियंवदा अवस्थी
जन्म- 2 जून 1971
शिक्षा-साहित्यिक विषय में स्नातक
काव्य, गद्य, लेख, कहानियों के लेखन में रुचि
भिन्न भिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित
एकल काव्य संग्रह जब तुम याद आये 2014 में प्रकाशित।
Email- priyaawasthi71@gmail.com


बड़ी तीखी मारे धार पुरवा निकसी बांध कटार
घायल विरहिन निराधार घटा घन प्यास अकुलाई
तुम्हारी याद फिर आई,,,,

चितव आकाश पे मृग मोर करें हैं बाग़ बगियन शोर
नयन अब कौन बाँधूँ डोर खींचे आ जाओ जो इस छोर
चिटक धरती ये पथरायी ,,,,,
तुम्हारी याद फिर आई,,,,

अगन बरसी बहुत इस जेठ,घमसा आषाढ़ लाठी टेक
पुकारे ताल माटी लेप, आंजते आँख तपती रेत
झुलस तन प्रीत मुरझाई ,,,,,
तुम्हारी याद फिर आई

नही अंगना में शीतल छाँव निरा सूना लगे है गांव
जगे एक आस हर आहट, पवन साँकल से खेले दांव
प्रतीक्षा आँख उथलायी,,,,
तुम्हारी याद फिर आई,,,,

खड़े हम ठूंठ बन खलिहान भाये कब तक कोरा पिसान
चुने गिन गिन कई बिहान, भिगोये आंसुओं वो धान
तके तेरी बाट रोपाई ,,,,
तुम्हारी याद फिर आई

प्रियंवदा अवस्
थी

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

शोभा किरण

Mon Aug 3 , 2020
सावन रूठा है फूल भी रूठे ,उपवन रूठा।घर आंगन भी रूठा है ।तुम जो मुझसे रूठ गए हो,सावन मुझसे रूठा है।जो पल हमने साथ गुजारे,याद में उसकी खोई हूं ।चेहरे पर मुस्कान लिए,छुप छुप कितना रोई हूँ।करूं कैसे श्रृंगार प्रिय अब ,दर्पण मुझसे रूठा है ।तुम जो मुझसे रूठ गए […]

Breaking News