सदर सांसद रवि किशन ने गोवा के मुख्यमंत्री जी को लिखा पत्र

गोरखपुर,उत्तर प्रदेश

प्रवासी श्रमिकों के वापसी के संबंध में किया आग्रह…

सांसद रवि किशन ने गोवा के मुख्यमंत्री जी को पत्र लिखकर गोवा में प्रवासी श्रमिकों के घर वापसी को लेकर और उनके स्वास्थ्य भोजन के प्रबंधक को लेकर गोवा के मुख्यमंत्री को पत्र के माध्यम से अवगत कराया है उन्होंने कहा कि मैं गोरखपुर संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता हूं जो पूर्वांचल का सबसे बड़ा महानगर है उत्तर प्रदेश गोरखपुर से बहुत से मजदूर आजीविका की तलाश में देश की सभी प्रांतों में जाते हैं इन दिनों गोरखपुर के 500 श्रमिक मापुसा एडीएम कार्यालय के सामने धरने पर बैठे हैं आपसे अनुरोध है कि कोरोना महामारी के कारण मेरे क्षेत्र के जो मजदूर आपके राज्य में फंसे हैं उनके उत्तर प्रदेश और गोरखपुर आने की वैकल्पिक व्यवस्था होने तक उनके भोजन आवास और स्वास्थ्य का उचित प्रबंध करने की कृपा करें इस महामारी के कारण उनका रोजगार समाप्त हो गया है जिसकी वजह से उन्हें अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है अतः आपसे सादर अनुरोध है कि उनके भोजन आवास और चिकित्सा की संपूर्ण व्यवस्था तब तक करें जब तक वह किसी वैकल्पिक व्यवस्था से अपने गंतव्य स्थान के लिए प्रस्थान नहीं कर जाते हैं

गोरखपुर के सदर सांसद रवि किशन मजदूरों और श्रमिकों को लेकर हमेशा चिंतित ही रहते हैं उनकी चिंता इस बात से भी देखी जा सकती है कि उनकी वेबसाइट पर अभी तक 60 हजार आवेदन घर आने के लिए पहुंच चुके हैं सांसद रवि किशन अलग-अलग प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से पत्र या अन्य माध्यम से संपर्क करते रहते हैं इसी के मद्देनजर उन्होंने गोवा के मुख्यमंत्री पणजी को पत्र लिखकर मजदूरों की समस्या के निवारण के लिए निवेदन किया है।

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

इजाजत-नीलम व्यास

Tue May 19 , 2020
इजाजत सुनो,,तितली बनउड़,,तुमसे मिलनेआऊ,,बोलोमिलोगे,,। बदलीबन छाजाऊ ,,तुम परमहसूस,, करूतुम्हें। महकबन,,फैलू,,तेरे अन्तर्मन में,,बस जाऊक्या,,? सपनोंमें आऊँगीमिलने,,तृप्ति पाकरदेख तुम्हें,,लौटू,,। यादेंबन छाऊरूह की तहझँझनाऊ ,,स्वीकारकरो,,। आलिंगनकर लूंहवा बन तुमकोछू जाऊक्या,,। किरणबन ,,छू लूतेरे ललाट को,,,देह,,प्रदीप्तकरू,,। रूबरूसम्भव,, नहींतो,,चाँदनी,,बनबस,,जाऊतुममे,,। देह,,से परेआत्मिक,,मिलन,,मनकर ,,लूक्या,,। शब्दोंको ,,भेजूँगीकविता बना,,प्रेमअभिव्यती,, करूक्या,,,। इजाजत,,पावन,, शर्तहीनप्रेम की ,,तुमसेबोलो,,है,,मुझे। नीलम व्यास

Breaking News