श्रमिक हितैषी कवियों के लिए……जिन्होंने मात्र कलम से घर बैठे दुख हर लिया…

श्रमिक हितैषी कवियों के लिए……जिन्होंने मात्र कलम से घर बैठे दुख हर लिया…

लिख रही हूँ वेदना के छंद, मैं ही बस श्रमिक पर ।
एक केवल पीर मेरे ही हृदय में पल रही है ।

सोचती ,श्रम साधकों का दर्द लिखना ही बहुत है ।
हो द्रवित अंतस न चाहे,क्षुब्ध दिखना ही बहुत है ।
छंद लिखकर सोचती हूँ,आज मैंने तीर मारा ।
किन्तु क्या मुझको पड़ी है,भूख ने किसको पछाड़ा ?
आत्मा उनकी तृषा में जल रही तो जल रही है ।

एक केवल पीर मेरे ही ,हृदय में पल रही……

सच न यह संवेदना है ,शब्द का व्यायाम भर है ।
गीत भी लिखना श्रमिक पर,झूठ का आयाम भर है ।
कारुणिक कुछ छंद लिखकर,वाह की मुझको अपेक्षा ।
रोटियाँ यदि दे न पाई ,व्यर्थ सचमुच यह शुभेच्छा।
कम हुई उनकी व्यथा कब ,जन्म से जो पल रही है ?

एक केवल पीर मेरे ही हृदय में पल रही……

मार्मिक कुछ शब्द लिखती ,और खुद को श्रेष्ठ कहती,
कम हुआ क्या क्लेश उनका,गीत गाने से व्यथा का ?
जब स्वयं बढ कर न आगे,योग कुछ देती श्रमिक को ,
काव्य फिर चाहे रचूं जो,मोल क्या कल्पित कथा का ?
हाँ !महज इतनी हुई कवि ,जीवनी द्रुत चल रही है ।

लिख रही हूँ वेदना के छंद बस मैं ही श्रमिक पर ।
एक केवल पीर मेरे ही हृदय में पल रही है ।

अनु

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

एक और कोरोना पॉजिटिव मिलने से ठाकुरनगर गाव में बढाई गयी सतर्कता--

Tue May 19 , 2020
गोरखपुर।कैम्पियरगंज क्षेत्र के ठाकुरनगर गाव में एक और 25 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद प्रशासन ने सतर्कता और बढ़ा दी है।कोरोना पॉजिटिव के घर व गाव को सेनेटाइज कराया जा रहा है।क्षेत्र के ठाकुरनगर गाव के टोला मोहलीपुरवा पूर्वी के कोरोना पॉजिटिव मृतक बृद्ध के साथ आये […]

Breaking News