महराजगंज जिले में बेसिक शिक्षा विभाग के धांधली व कमीशनखोरी के खिलाफ खंड शिक्षा अधिकारी व शिक्षक संघ ने खोला मोर्चा

धर्मेंद्र चौधरी की रिपोर्ट:

नौनिहालों के भविष्य को संवारने का जिम्मा लिए सरकार के बेसिक शिक्षा विभाग में भ्रस्टाचार इतने चरम पर है कि तमाम परिषदीय स्कूलों के अध्यापक परेशान हैं। महराजगंज जिले में स्थिति और भी विकराल हो गई है।
निचलौल ब्लाक के खंड शिक्षा अधिकारी अरविंद कुमार सिंह धांधली व कमीशनखोरी के खिलाफ लड़ाई लड़ने के मूड में आ रहे हैं। उनका आरोप है कि सत्ता पक्ष के कुछ सफेदपोश व कुछ आलाधिकारियों द्वारा धांधली कराए जाने का दबाव डाला जा रहा है। कमीशन की मोटी रकम मांगी जा रही है।
पूरे जिले में धांधली व कमीशन खोरी के तिलस्म के खिलाफ नौतनवा ब्लाक क्षेत्र के कई अध्यापकों ने भी मोर्चा खोल दिया है। राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तर प्रदेश के बैनर तले जिला संयोजक ऋषिकेश गुप्ता व जिला सह संयोजक अजय त्रिपाठी ने भी मोर्चा खोल दिया है। शिक्षकों का आरोप है कि प्रत्येक संकुलों पर स्कूलों पर बेंच(डेस्क) भेजने में भी शासनादेश के विपरीत वेंडरों से काम कराया गया और जिले के आलाधिकारियों द्वारा प्रति संकुल 25 हजार तक रिश्वत मांगी गई। अब शासनादेश के विपरीत स्कूलों की किताबें खुद शिक्षकों को ही बीआरसी से लाने के लिए कहा जा रहा है। जबकि सरकार ने किताबों को स्कूल तक पंहुचाने का बजट दिया है और वेंडर भी नियुक्त किया है। ऐसे में वह बीआरसी या जिले से किताब लेने नहीं जाएंगे।
शिक्षकों का यह भी आरोप है कि शिक्षा विभाग में चल रही धांधली व कमीशन खोरी की कई बार डीएम डॉ. उज्ज्वल कुमार सिंह से शिकायत की गई है। लेकिन वह जांच व कार्रवाई का आश्वासन भर ही देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

सोनौली: लक्ष्मीनगर गांव में चरस के बड़ी खेप की सूचना पर एसएसबी व पुलिस परेशान, चार हिरासत में

Sun Sep 27 , 2020
मीडिया पंचायत ( सौनौली): सौनौली कोतवाली क्षेत्र के लक्ष्मीनगर गांव में रविवार की सुबह एसएसबी व पुलिस ने चरस की बड़ी खेप की सूचना पर तमाम जगहों पर छापेमारी की। देर शाम तक पुलिस का दावा रहा कि कोई चरस बरामद नहीं हुई है। मामले में चार लोग हिरासत में […]

Breaking News