महराजगंज के पुलिस कप्तान को नौतनवा के बाइक चोरों ने दी चुनौती

नौतनवा/महराजगंज:


नौतनवा कस्बा में मोटरसाइकिल चोरों ने ताबड़तोड़ चोरियों को अंजाम देकर पुलिस को खुलेआम चुनौती दे दी है। नौतनवा में तमाम पुलिस निरीक्षक व उपनिरीक्षक आये और गए। लेकिन मोटरसाइकिल चोरों की टोह नहीं पाए। अब बाइक चोरों की यह चुनौती सीधे-सीधे कप्तान साहब को है। हत्या के तमाम मामलों में अच्छी वर्क आउट का दावा करने वाली महराजगंज पुलिस बाइक चोरों को पकड़ने में विफल अब तक विफल साबित हुई है। बीते एक सप्ताह में कस्बे के सार्वजनिक व भीड़-भाड़ वाले स्थानों 6 बाइक चोरों ने उड़ा लिया।
गजब बात यह कि पुलिस अपनी नाकामी कागजों पर दर्ज करने से कतरा रही है। अधिकतर मामलों में कोई प्राथिमिकी दर्ज नहीं की जा रही है। एक मोटरसाइकिल तो नौतनवा पुलिस चौकी के गेट के सामने से ही चोरी हो गई।
हाल ही में बाइक चोरी के मामलों पर नजर डालें तो 29 जनवरी को कस्बे के विंध्याचल की गाड़ी एक मैरिज हाल से चोरी हो गई। इसी दिन ठीक 4 घंटे बाद खैराटी के कमलेश मौर्या की बाइक को चोरों ने। हद तो यह हो गई बाइक चोरी के ताबड़तोड़ दो घटना के ब कुछ घंटे बाद ही चंदनपुर निवासी अनिरुद्ध रहमान की बाइक भी चोरी हो गई।
29 जनवरी के बाद 30 जनवरी को गौतम बुद्ध नगर निवासी मुन्नू श्रीवास्तव की बाइक भी नगर से चोरी हो गई उन्होंने इसकी लिखित सूचना थाने दी। आरोप है कि एफ आई आर की कॉपी हो मांगने गए तो उन्हें थाने से भगा दिया । 1 जनवरी को अमित जायसवाल की बाइक चोरों ने उड़ा दिया इसी दिन लगभग 3 घंटे बाद त्रिपाठी इंफॉर्मेशन के पास से पिपरा गांव निवासी दयाशंकर गुप्त बाइक को चोरों ने उड़ा दिया । कई चोरी के मामले सीसीटीवी में कैद हैं। नौतनवा पुलिस मामलों में हांथ उठाती नजर आ रही है और प्राथमिकी तक दर्ज करने से कतरा रही है। सवाल पुलिस कप्तान प्रदीप गुप्ता के लिए खड़े हो रहे हैं। नौतनवा पुलिस तो बाइक चोरों को पकड़ने में विफल साबित हो रही है। क्या कप्तान साहब सीधे तौर पर नौतनवा कस्बे में सक्रिय बाइक चोरों की चुनौती स्वीकार करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

।।#अक्ष।। VEENA SHREE

Wed Feb 3 , 2021
विचलित जज़्बातों का शोररुहानी थकन -ठहरावकर्तव्यों की तपिशसांझ-पहर-या उनींद भोर– थके तलवो पर धूसर -धूलयूं जैसे चरणों में फूलकुम्हलाया भावविहिन रुपछवि को सहेजती कौली धूप– मुझ तक लाती खबर तुम्हारीइत्तेफा़क- नियती दो तितली प्यारीखुद को छलते मन के तारे–रहती तुम-तकअक्ष-अस्थिर परिक्रमा मेरीनक्ष सब अचंभ निहारे– स्थिर तुम भी खुद हो […]

Breaking News