फर्जी तरीक़े से 40 वर्षों तक स्कूल का पैसा डकार रहा था अमर बहादुर थापा : गोरखा समाज

फोटो- धर्मेंद्र चौधरी के साथ मीडिया पंचायत वार्ता में शामिल गोरखा समाज के लोग ।

मीडिया पंचायत न्यूज़ नेटवर्क/नौतनवा :

महराजगंज जिले के नौतनवा कस्बा में स्थित गोरखा भूत पूर्व सैनिक स्कूल प्रबंधकीय समिति विवाद प्रकरण के मद्देनजर गोरखा समाज के लोगों ने शुक्रवार की शाम एक बैठक की। बैठक के उपरांत मीडिया पंचायत वार्ता में गोरखा समाज के पदाधिकारियों ने विवाद की धुरी अमर बहादुर थापा के काले कारनामों को एक एक कर उजागर करने की बात कही।
कहा कि अमर बहादुर थापा ने सीधे-साधे पूर्व गोरखा सैनिकों के साथ छल करते हुए गोरखा भूत पूर्व सैनिक स्कूल का लाखों रुपया गबन किया है। विगत 40 से भी अधिक वर्षो से वह फर्जी रूप से स्कूल का प्रबंधक बन स्कूल का पैसा डकार रहा था। नौतनवा ब्लाक क्षेत्र के कैथवलिया उर्फ बरगदही गांव के अलावा नौतनवा में भी दो स्थानों पर कीमती भूमि स्कूल के धन से खरीदी गई है और अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दी। स्कूल के वजीफा में भी भारी गोलमाल किया गया है। जिसमे स्कूल में कार्यरत किशन बहादुर थापा भी शामिल है। इस बावत नौतनवा थाना में अमर बहादुर थापा पर मुकदमा भी दर्ज है।
गोरखा समाज के लोगों ने यह भी आरोप लगाया कि अमर बहादुर थापा चरित्रहीन भी है। उसने स्कूल में साफ-सफाई करने वाली एक बालिका के साथ अवैध संबंध बनाया। स्कूल के एक सम्मानित पदेन बताते हुए भी उसके इस कृत्य से पूरे क्षेत्र में गोरखा समाज की काफी किरकिरी हुई। ऐसे कई अन्य मामले भी हैं। जब गोरखा समाज के लोगों को अमर बहादुर थापा के काले कारनामों का पता चला तो उन्होंने उसे स्कूल से निष्कासित करने का काम किया।
अब अमर बहादुर थापा अपने काले कारनामों को छिपाने के लिए गोरखा समाज के सम्मानित लोगों पर स्कूल को हड़पने जैसा अनर्गल आरोप लगा रहा है।
गोरखा समाज के पदाधिकारियों ने अंतिम में यह कहा कि अमर बहादुर थापा के काले कारनामों को एक एक कर उजागर किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

ऐ डॉक्टर साहब! कईसन नसबंदी कईला कि फिर बच्चा ठहरि गय?

Sun Jul 26 , 2020
मीडिया पंचायत न्यूज़ नेटवर्क (धर्मेंद्र चौधरी की रिपोर्ट) : नौतनवा विकास खंड के रामगढ़वा गांव का निवासी रमेश परेशान है। खेती-बाड़ी न के बराबर है। मेहनत मजदूरी से अपनी पत्नी व चार बच्चों का पेट पाल रहा है। पछतावा भी है कि चार बच्चे न होते तो बोझ न होता। […]

Breaking News