डॉ प्रेमदान भारतीय

मृत्यु केवल देहावसान नहीं न केवल सांसों का रुकना।

मृत्यु वो भी है कि जिस देश में रहें उससे प्यार न करें।।


मृत्यु केवल मिट्टी में बेमक़सद मिल जाना ही नहीं है।

मृत्यु वो भी है इंसानियत का दिल से सत्कार न करें।।
मृत्यु केवल विछोह नहीं जीते जी अपनो से अपनों का।

मृत्यु वो इंसान होकर इंसानियत का जो विचार न करें।
मृत्यु केवल घटना नहीं है आम घटनाओं की तरह भाई

मृत्यु वो भी कि बुराई का दिल से कभी इनकार न करें।
डॉ प्रेमदान भारतीय

डॉ प्रेमदान भारतीय

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

अपने अपने घर में ही मनाएं त्योहार : थानाध्यक्ष

Tue May 19 , 2020
19 मई 2020कैम्पियरगंज,गोरखपुर।(उ०प्र०) आगामी रमजान व ईद त्योहार के मद्देनजर मंगलवार को क्षेत्र के मौलवी, मुलतवी, के साथ थाना परिसर में मंगलवार को बैठक हुई। इसमें थानाध्यक्ष निर्भय नारायन सिंह ने देश मे फैल रहे कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार द्वारा घोषित लाकडाउन का पालन करते हुए सभी […]

Breaking News