*।। हास्य रचना।। * एस एन एस मेहरा

*।। हास्य रचना।। *
एक दिन मैंने अपनी श्रीमती से कहा कि, आँखें कमजोर मेरी होती जा रही हैं।
तुम्हे देख देख आँखें हुई बावली सी और नैन ज्योति धीरे धीरे खोती जा रही है।।
कि आज्ञा हो तो चस्मा एक बनवा लूं, नहीं तो मैं शूर का जीवन बिताऊंगा।
चल दोगी तुम तो अकेला मुझे छोड़के अंधा होके कैसे मैं कमाऊंगा मैं खाऊंगा।
बीवी बोली सुनो पिया मत तोड़ो मेरा जिया, एक नही चश्मा तो दो बनवा लो।
मोहल्ले मे आ गई क्या और कोई सुंदरी,
यही जाना चाहूं मुझे इतना बता दो।

एस एन एस मेहरा
https://youtu.be/sKQnAe33h04

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

ट्रस्ट बिलिंग को दें बढ़ावा, उपभोक्ता खुद जनरेट कर सकेंगे बिल: पं. श्रीकान्त शर्मा

Tue May 19 , 2020
ट्रस्ट बिलिंग को दें बढ़ावा, उपभोक्ता खुद जनरेट कर सकेंगे बिल: पं. श्रीकान्त शर्मा ऊर्जा मंत्री ने की समीक्षा, उपभोक्ताओं को करें प्रेरित सभी के सहयोग से सुनिश्चित हो सकेगी निर्बाध विद्युत आपूर्ति बिलिंग केंद्रों पर दी जाएगी हेल्पडेस्क बनाकर ट्रस्ट बिलिंग की जानकारी सौभाग्य, झटपट व निवेश मित्र के […]

Breaking News