लघुकथा

ताड़ की परेशानी

ताड़ की परेशानी

रोज सुबह लोगों को अपनी तरफ आते देख ताड़ का वृक्ष सोचता था कि ये लोग मुझे लेने आ रहे हैं और अकड़ कर खड़ा हो जाता था- इतनी आसानी से थोड़े हाथ आने वाला हूँ।
लेकिन जब वह अपने आस-पास जमीन पर फैले दूब को तोड़ते देखता था तो हैरान हो जाता था-
ये लोग भी न अजीब हैं। फल की छोड़कर व्यर्थ के मामूली घास को तोड़कर अपने घर ले जाते हैं।
रोज- रोज का यही सिलसिला देख वह एक दिन दूब से पूछ ही बैठा।
” दूब! ये मुर्ख लोग तुम जैसे मामूली घास को ले जाकर क्या करते हैं? इन्हें फल खाने की इच्छा नहीं होती है और जो धूल-धुसरित है उसे तोड़कर घर ले जाते हैं।”
दूब ने बड़ी विनम्रता से जबाब दिया।
“भैया! आप तो इतने बड़े हो कि तुम्हें लोग आसानी से तोड़ भी नहीं सकते। सीधे तनकर खड़े हो। मैं तो जमीन पर हूँ।”
“लेकिन तुम किस काम की?”
” उनके किसी काम की नहीं हूँ, वो तो अपने अराध्य देव गणेश जी के लिए ले जाते हैं।”
ताड़ का वृक्ष सोचने लगा-
एक दिन बढ़ते-बढ़ते जब स्वर्ग में जाऊँगा तो गणेश जी से पूछूँगा कि आखिर दूब में ऐसा क्या है, जो तुम्हें अति प्रिय है?

पुष्पा पाण्डेय।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

निशुल्क स्वास्थ्य शिविर

Sat Aug 27 , 2022
“स्वस्थ हम बेहतर आज और कल” भगतचंद्रा अस्पताल द्वारा 27 अगस्त शनिवार को पालम कालोनी में 2005 वे स्वास्थ्य कैंप का आयोजन किया गया इस कैंप में कुल 58 पेशंट शामिल हुए | आज तक कुल 1 लाख, 36 हजार , 145 पेशंट इस निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का लाभ ले […]

You May Like