डॉ. कमल टावरी भाग्योदय फाउंडेशन के मुख्य सलाहकार बने

डॉ. कमल टावरी भाग्योदय फाउंडेशन के मुख्य सलाहकार बने

भारत सरकार के पूर्व सचिव हैं डॉक्टर टावरी

उत्तर प्रदेश व उत्तराखण्ड काडर में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी रहे डॉक्टर कमल टावरी ‘भाग्योदय फ़ाउंडेशन’ के मुख्य सलाहकार बनाए गए हैं। उन्होंने भाग्योदय फ़ाउंडेशन का यह आग्रह सहर्ष स्वीकार किया है। वह इण्टरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ पंचायती राज एण्ड एडीशनल ऐक्शन पीपुल्स प्लानिंग पॉलिसीज़ कमीशन के चेयरमैन हैं। साथ ही इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फ़ॉर होलिस्टिक रिसर्च एण्ड वालंटरी ऐक्शन (इण्डिया-यूरोप), रूरल बिज़नेस हब इण्डिया (RBHI) तथा ऐक्शन ग्रुप फ़ॉर गुड गवर्नेंस (AGGG) के कल्पनापुरुष व प्रमुख हैं। यूपी काडर में 1968 बैच के आईएएस अफ़सर डॉ. टावरी ने कालान्तर में उत्तराखण्ड काडर Opt कर लिया। वे भारत सरकार में सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए।

डॉक्टर टावरी बेहद सक्रिय, चिन्तनशील, ज़मीनी तथा मिलनसार इन्सान हैं। भारतीय थल सेना में कर्नल के बाद भारतीय प्रशासनिक सेवा में आए श्री टावरी जी 22 वर्षों तक ग्रामीण विकास, ग्रामोद्योग, पंचायती राज, खादी, उच्चस्तरीय लोक प्रशिक्षण जैसे सेक्टरों में सेवारत रहे। महाराष्ट्र स्थित गांधी ग्राम वर्धा मूल के श्री कमल टावरी के पास राष्ट्र के सर्वांगीण विकास का एक बड़ा चिन्तन और सुस्पष्ट रूपरेखा है। उन्हें इन क्षेत्रों का व्यापक अनुभव प्राप्त है।

केन्द्रीय गृह मंत्रालय एवं नीति आयोग सहित विभिन्न राष्ट्रीय संस्थाओं में उच्च पदों पर रह चुके डॉ. टावरी ग़ाज़ीपुर के ज़िला मजिस्ट्रेट तथा फ़ैज़ाबाद (आज के अयोध्या) के कमिश्नर भी रहे। प्रशासकीय जीवन के अनुभवों पर आधारित उनकी 40 पुस्तकें भारतवर्ष के समग्र विकास के लिए बड़ी महत्वपूर्ण हैं। एक गृहस्थ सन्यासी का जीवन जीते हुए बढ़ती वय में भी वे पूर्ण स्वस्थता के साथ पूरी तरह सक्रिय हैं। देश विदेश में उनके चाहने वालों की भारी संख्या है।

स्वयं को ‘सदा विद्यार्थी’ मानने वाले डॉक्टर कमल टावरी ने प्रगाढ़ अनुभवी विभूतियों की एक उच्चस्तरीय स्टीयरिंग कमेटी बनाकर भाग्योदय फ़ाउंडेशन की उद्देश्य पूर्ति हेतु अपनी सेवायें देना आरम्भ कर दिया है। आपको हम सबके आत्मीय आभार।https://youtu.be/zNWTvsi9M8M

www.bhagyodayfoundation.org

mediapanchayat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

बॉर्डर से हटाए जा रहे नेपाल सशस्त्र बल के अस्थाई कैंप

Thu Jul 2 , 2020
मीडिया पंचायत न्यूज़ नेटवर्क: कोरोना के मद्देनजर हुए भारत-नेपाल बॉर्डर सील की कवायद में नेपाल सरकार द्वारा नोमेंस लैंड किनारे सशस्त्र जवानों की तैनाती की थी। जवानों के लिए चीन निर्मित तिरपाल के अस्थाई कैंप भी बनाए गए थे। जो अब हटने लगे हैं।महराजगंज जिले के भारत-नेपाल की खनुआ सरहद […]