कविता=स्वप्न सजा लो बच्चों स्वप्न सजा लो साकार करलो सुहाने सपनों को ऊंचे नभ में उड़ानें भरलो करलो दुनिया को अपनी मुट्ठी में खूब पढ़ो, पढ़ाओ, सुनो,सुनाओ अपने संस्कारों को सुरभित सुगंध बहा, पकड़ लो हवा के संकेतों को समझो समझाओ और बनाओ जनक अपने अविष्कारों को गुनलो, बुनलो, चुनलो […]

जाने दो, जाने दो, भगवान जाने दो। इतना आसान लगता है, है ना ? और फिर भी हम में से अधिकांश जानते हैं कि यह उतना आसान नहीं है जितना लगता है। वास्तव में, यह एक ऐसा प्रश्न है जिसे हममें से प्रत्येक को अपने आप से पूछना चाहिए: हम जाने क्यों नहीं देते ? इसका उत्तर आसक्ति, असुरक्षा, भय, या बस, सब कुछ स्वयं को नियंत्रित करने की इच्छा में निहित हो सकता है, भले ही इसके विनाशकारी परिणाम हों। जीवन अपनी ऊंचाई और चढ़ाव के साथ एक रोलर कोस्टर है जो कभी–कभी हमें चक्करदार ऊंचाइयों तक ले जाता है और फिर हमें एक तेज गिरावट में धकेल देता है। जब चलना अच्छा होता है, जब हम ‘ऊंचे‘ पर होते हैं, जैसा कि लोग कहते हैं, हम सवारी का आनंद लेते हैं। असफलता और हानि, निराशा और सामान्य स्थिति में व्यवधान नकारात्मक भावनाओं को पैदा करते हैं जो जल्द ही खुद को अवसाद और निराशा के मूड में व्यक्त करते हैं। निराशा और हताशा से निपटने का एक प्रभावी तरीका है मामले की जड़ तक जाना, विश्लेषण करना और अपनी खुद की भावनाओं को समझना और फिर जो कुछ भी नकारात्मक भावनाओं का कारण बन रहा है, उसे छोड़ देना। यहां तक ​​​​कि अगर परिस्थितियां विकट और पूरी तरह से हमारे नियंत्रण से बाहर लगती हैं, तो यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हम हमेशा सकारात्मक और रचनात्मक तरीके से सबसे प्रतिकूल धारणा पर प्रतिक्रिया और प्रतिक्रिया करना चुन सकते हैं। दूसरे शब्दों में हमारा रवैया और हमेशा हमारे भीतर होना चाहिए नियंत्रण। जब हम इस तरह के दृष्टिकोण को कम करना सीखते हैं तो हमें उस चुनौती का सामना करना आसान हो जाता है । जीवन के बड़े संदर्भ में, ये मुद्दे इतने क्षुद्र और तुच्छ हैं। जब आप अपनी कड़वाहट और क्रोध को छोड़ देते हैं, तो आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि जीवन कितना अधिक मूल्यवान है और यह कितना आवश्यक है कि आप उन लोगों के साथ स्थायी बंधन बनाएं । जीवन प्रकाश और अंधेरे के बीच फंस गया है। आप चीजों को अपने आप में अच्छा या बुरा नहीं कह सकते, लेकिन विषयगत रूप से आप कह सकते हैं कि हम पर इसका प्रभाव अच्छा या बुरा है। वहां एक वस्तुनिष्ठ सत्य है। जब आप प्यार देते हैं, तो आपके पास प्यार होता है। जब आप क्रोध और घृणा देते हैं, तो आप अपने आप में घृणा और घृणा रखते हैं और आप अंधेरे हो जाते हैं। हम अपने ग्रह के विकास में घायल बिंदु पर हैं। हमारे पास पहले एक विकल्प है हमें अब सोचने के पुराने तरीकों में स्थिर रहना है या फिर से मूल्यांकन करना है कि हम कौन हैं और हम यहां क्या कर रहे हैं। मुझे लगता है कि भविष्य एक शानदार है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम पहुंचेंगे यह आसानी से। अपने स्वयं के होने की दिव्य वास्तविकता से शुरू करें और अनंत के आनंद और स्वतंत्रता की खोज करें। जीवन में उद्देश्य ढूंढकर चिंता पर काबू पाएं अत्यधिक वैज्ञानिक प्रगति करने के बावजूद हमारे लोगों के मानसिक स्वास्थ्य में गिरावट प्रतीत होती है। अध्ययनों से पता चला है कि खुशी से और अपेक्षाकृत चिंता से मुक्त रहने के लिए जीवन में सुसंगत लक्ष्य और दिशा होना महत्वपूर्ण है। हमें बाहर से अंदर की ओर सोचने की जरूरत है, ऐसा करने से कल बेहतर परिणाम आएगा और सोचने का नजरिया निश्चित रूप से बदल जाएगा। जिस तरह से आप सोचते हैं, वैसे ही आप बन जाते हैं, इसलिए अपने आस–पास की सभी नकारात्मक चीजों से बचें ताकि आशावादी की खुशबू हो चारों ओर।                                                                                                 […]

रूठ ना जाये कोई अपनाबढ़ के उसे मना लेनाबिछड़ सके ना कोई तुमसे यूंअपना उसे बना लेना जीवन में सब कुछ मिल जातासच्ची प्रीत नहीं मिलतीप्रेम करे जो दिल से उसकोअपना मीत बना लेना भूल से भूल ना होने पाएऐसा कोई काम ना होमीत बना कर दिल का देखोदिल ना […]

किस्से कवि सम्मेलनों के – 10 टनाटन बारिश के बीच झमाझम कवि सम्मेलन मऊरानीपुर मेला जल विहार सन्1988 से मैं कवि सम्मेलनों के मंचों पर हूँ।1988से 2021तक की इस लम्बी समयावधि में न जाने कितने कवि सम्मेलन मैंने किए।एक से एक शानदार। लेकिन उनमें से कुछ की छाप मन मस्तिष्क […]

प्रेरणा दर्पण साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच और आदिशक्ति फाउंडेशनद्वारा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में”राष्ट्रीय कवयित्री सम्मेलन, सम्मान समारोह का आयोजन पुस्तक तथा लघु फिल्म डेजर्ट क्वीन का लोकार्पण” दिनांक: 07 मार्च, 2021 रविवार, को जनकपुरी क्लब, नयी दिल्ली में प्रेरणा दर्पण साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच और आदिशक्ति फाउंडेशन द्वारा […]

 media पंचायत राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली अंजना की रिपोर्ट    प्रेरणा दर्पण साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच और आदिशक्ति फाउंडेशन के संयुक्त तत्वाधान में  विश्व महिला दिवस के अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह,पुस्तक लोकार्पण,राष्ट्रीय कवयित्री सम्मलेन एवं लघुफिल्म डेजर्ट क्वीन के लौन्चिंग कार्यक्रम में रूप से सम्मानित होने होंगी  १० विभूतियाँ … […]

दिनांक 24 फरवरी, 2021 को स्पीड सोसाइटी द्वारा अर्ज, गोआ के सहयोग से मेट्रो होटल, उत्तम नगर में किन्नर समुदाय के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में 32 किन्नर समुदाय के लोगो की भागीदारी रही। बैठक का फैसिलिटेशन श्री कृष्ण बंसल व श्री अवधेश यादव(स्पीड) द्वारा किया […]