ज़ब माँ मेरी पूजा करती है॥ अपने नाज़ुक नाज़ुक हाथों से जव माँ मेरी जब दादी मेरी कलश को मोली बांधती है॥ कलश को सजाती है कलश में फूल माला लगातीं है॥ सारी दुःख पीड़ाऐं मानो पल भर में सबकी हर लेती है॥ माँगती वो दुआ रब से॥ चाहती वो […]

डाकिया कभी गाँव में आते थे हम सब के डाकिया चाचा, खबर लाते वो अपनों की दुख सुख हो या सपनों की। शीतलहर में वो नहीं रुकते गर्मी में भी वो नहीं थकते, बारिस की झमझम बूंदों में खबर सुनाते पढ़ पढ़ कर। ध्यान से सबकी बातें सुनते अनकही बातों […]

भोजपुरी देवी गीत- माई के पूजाई। हमार पियवा हो करा माई के पुजाई । खुश होई होइहे माई हमरो सहाई। हमार पियवा हो । नहाई धोआई धोती कुर्ता पहिन के। लेई माई के चुनरिया चलब सडिया पहिंन के। जरावा धुपवा हो सब दुखवा भुलाई। हमार पियया हो। माई के चरनिया […]

सखी वेलफेयर सोसाइटी के गठन मैंने महिलाओं को निशुल्क स्किल बेस्ड ट्रेनिंग देकर आत्मनिर्भर बनाने के लिए किया था । अभी तीन साल पूरे भी नही हुए और हम एक हज़ार से अधिक लड़कियों को किसी न किसी रूप में लाभान्वित कर चुके है । एवं उत्तर प्रदेश की गवर्नर […]

तुमसे पहले तुमसा …. सच तुमसे पहले तुमसा हमने कोई और नहीं देखा । मेरी जिंदगी थी धूप सहर की , बहता प्यार का चश्मा मिला , मेरे रास्ते से तेरा रास्ता जो मिला , सच तुमसे पहले तुमसा ……. मेरी शिकस्त पर मेरा हाथ थामा , मेरी जीत पर […]

मित्रों ,आज काव्य मंजरी साहित्यिक संस्था ,उत्तर प्रदेश कार्य कारिणी द्वारा ‘माँ तुझे सलाम ‘ किया गया ,कार्यक्रम की रोचकता और नवीनता बनाए रखने के लिए सभी कवयित्रियों को दो चोटी बनाना और काजल लगाना तथा चॉकलेट या लॉलीपॉप रखना अनिवार्य किया गया । सभी प्रतिभागियों ने बहुत सुन्दर ,भावपूर्ण […]