Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/mediapan/domains/mediapanchayat.com/public_html/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

मुमकिन है तुरपाई

मुमकिन है तुरपाई
*****
बादल फटते, दूध भी फटता, मुश्किल है भरपाई।
फटते जब कपड़े या रिश्ते, मुमकिन है तुरपाई।
सीख लो मेरे भाई।
सीख ले तू भी ताई।।

जीवन है अनमोल खजाना, चतुराई से इसे बिताना।
कोई गम को खोज के रोता, गाता कोई सदा तराना।
ठान लिया जो उसे बुढ़ापे में आती तरुणाई।
सीख ले —–

आनेवाले कल की खातिर क्या क्या जोड़ रहे हैं?
इस कारण से पल कोमल जो उसको छोड़ रहे हैं।
छूटा घर आँगन भी अपना, करते रहे कमाई।
सीख ले —–

साँसें जब टूटेगी, टूटे, हमको जीना होगा।
हँसते हँसते जहर गमों का हमको पीना होगा।
यकीं सुमन को बजेगी यारो आँगन में शहनाई।
सीख ले —–
सादर
श्यामल सुमन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

डॉ पूजा सिंह गंगानिया जी ने महिलाओं को सैनिटरी पैड के महत्व समझाया व उन्हें इसे इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया

Thu May 12 , 2022
। महिलाओं में शारीरिक स्वच्छता को लेकर जो भ्रांतियां है, उसके बारे में काफी चर्चा हुई व उपस्थित बहनों की समस्याओं को न सिर्फ सुना अपितु डॉक्टरी उपस्थिति के साथ उपचार भी बताये। उनकी स्थिति देखते हुए बहुत जल्द ही एक हेल्थ कैम्प आयोजित किया जाएगा। बेटी बचाओ – बेटी […]